Ad Code

शादीशुदा दीदी की मालिश के बाद चुदाई



 न्यूड सिस्टर Hindi Adult Stories कहानी मेरी बड़ी बहन की है. वो मैरिड है. मैं उनके घर गया तो दीदी ने मुझसे अपने पैरों की मालिश करवाई. उनकी नंगी टाँगें मुझे अच्छी लगी.

दोस्तो, मेरा नाम राहुल है, मैं कानपुर का रहना वाला हूं. मेरी उम्र 25 वर्ष है।यह मेरीन्यूड सिस्टर  कहानी मेरी और मेरी दीदी के बीच की है.मेरी दीदी लखनऊ में रहती हैं काफी समय से जॉब में व्यस्त होने के कारण मैं लखनऊ दीदी के घर नहीं गया था.

दो महीने पहले मेरी नौकरी छूट गयी थी तो मैं घर पर फ्री रहने लगा.

एक दिन दीदी का फोन आया- राहुल, मेरे पास आकर हमारा घर देख जाओ, मै जीजा जी ने तुम्हारे इंटीरियर का काम जबरदस्त कराया है। मैंने तुरंत अपना बैग पैक किया और बस पकड़कर लखनऊ में आशियाना में दीदी के घर जा पहुँचा।

आपको बताना भूल गया कि मेरी नेहा दीदी की उम्र लगभग 31 साल की है उनका फीगर गजब का है. उनकी चूचियाँ का साइज भी 38 है।

नेहा दीदी घर पर हाफ पैन्ट और टी शर्ट में ही रहती हैं.


मैं जब पहुँचा तो दीदी ने मुझे गले लगा लिया.

मुझे बहुत अच्छा लगा.

घर पर दीदी के अलावा उनके 2 बच्चे हैं जो अभी बहुत छोटे हैं; एक 6 साल है तो दूसरा 4 साल का.

जीजा जी ऑफिस के काम से अधिकतर टूर पर ही रहते हैं। दोपहर को खाना पीना खाने के बाद मैं और दीदी बात कर रहे थे.

तभी दीदी ने बोला- राहुल मेरे पैर दबा दो! आपको बता दूं कि मैं दीदी के पैर अक्सर दबाता हूँ.

मैं झट से उठकर दीदी के पैर दबाने लगा।

दीदी की गोरी गोरी टांगें देखकर आज मेरा मन डोल रहा था; मन कर रहा था कि मैं टांगों से भी ऊपर भी पहुँच जाऊं। खैर 15 मिनट पैर दबाने के बाद दीदी ने बोल दिया- अब बस करो थक गए होंगे, आराम करो।

उसके बाद मैं दीदी एक ही बेड पर सो गए.थोड़ी देर बाद मैंने देखा तो नेहा दीदी की एक टांग मेरे कमर पर चढ़ी हुई है और उनका एक हाथ भी मेरे ऊपर है.

मुझे बहुत मजा आ रहा था, मन कर रहा था कि मैं भी नेहा दीदी को बांहों में लेकर उनके दूध में हाथ डाल दूं।

ये दीदी की आदत शायद जीजा जी ने डाल दी थी।ऐसे ही मुझे कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला.

दीदी शाम को चाय लेकर आयी तब मेरी नींद टूटी। अगले दिन सुबह जीजा जी को टूर पर 5 दिनों के लिए दिल्ली जाना था।

घर पर मैं और दीदी और उनके दोनों बच्चे थे।

दोपहर को बच्चे कम्प्यूटर पर गेम खेल रहे थे, मैं और दीदी कमरे में लेट कर बाते कर रहे थे।

दीदी ने आदत अनुसार मुझसे कहा- राहुल पैर दबा दो! आज दीदी ने स्लीवलेस मैक्सी पहन रखी थी।

मैं झट से पैर दबाने लगा. थोड़ी देर पैर दबाने के बाद दीदी ने बोला- राहुल मेरे पंजों में दर्द हो रहा है।

मैं ये मौका छोड़ना नहीं चाहता था, मैं चाह रहा था कि दीदी पूरे शरीर की मालिश मुझसे करवायें ताकि मैं उनका सेक्सी बदन देख सकूं।

मैंने दीदी से बोला- दीदी, आपके पैर सूखे सूखे लग रहे हैं. आप बोलो तो तेल से हल्की हल्की मालिश कर दूं?

दीदी ने कहा- कर दो राहुल! मुझे मसाज पोर्न वीडियो देखने का शौक है जिसे देखकर मैं मसाज करना सीख लिया है. मैं तेल से दीदी के पैरों के पंजों की मालिश धीरे धीरे कर रहा था.

 फिर मैंने दीदी से पूछा- दीदी, कुछ आराम मिला?तो नेहा दीदी ने कहा- इतनी अच्छी मालिश कहाँ से सीखी तुमने राहुल? बहुत आराम मिल रहा है।

फिर मैं धीरे धीरे दीदी के टांगों पर तेल डालकर अच्छे से मालिश करने लगा।

दीदी ने कहा- राहुल तुम्हारे हाथों में जादू है, बहुत अच्छी मालिश करते हो तुम तो! मैंने दीदी को पेट के बल लेटने को कहा और उनकी मैक्सी टांगों के ऊपर तक उठा दी. उनकी गोरी गोरी जांघें मेरे सामने थी. मेरा लंड पैन्ट के बाहर आने को बेताब था.

मैं हाथों में तेल लेकर दीदी की जांघों पर मालिश करने लगा.

मैक्सी के अंदर हाथ डालकर मैं धीरे धीरे उनके चूतड़ों पर हाथ फेर कर मालिश कर रहा था. दीदी को भी मजा आ रहा था.

उन्होंने अपनी आँखें बंद कर रखी थी. मैंने मौके का फायदा उठा कर मैक्सी कमर तक उठा दी तो दीदी की आसमानी रंग की पैंटी मेरे सामने थी.दीदी के गोरे गोरे चूतड़ों पर आसमानी रंग बहुत जँच रहा था.

मेरा मन तो कर रहा था कि पैंटी को नीचे सरका कर अभी उनकी सेक्सी गांड चाट लूं।

मैंने धीरे से दीदी को आवाज दी- दीदी, कैसी लग रही है मालिश?

दीदी ने बहुत- अच्छी करते हो राहुल, करते रहो।

मैंने कहा- दीदी, आप कहो तो आपके कमर भी कर दूं? उन्होंने हाँ कर दी.

मैंने झट से उनकी कमर में हाथ डालकर मैक्सी कमर तक कर दी तेल डालकर अच्छे से कमर की मालिश करने लगा. मुझे उनकी पैंटी मदहोश किये जा रही थी. मैं थोड़ी देर ऐसे ही मालिश करने के बाद उनकी गांड के ऊपर बैठ कर दीदी की कमर की मालिश करने लगा. धीरे धीरे मेरे दोनों हाथ दीदी की पीठ से होते हुए उनके कंधों पर पहुंचने लगे.

मैंने एक जगह पढ़ा था कि स्त्रियों के कान सहलाने से उन्हें जल्दी सेक्स चढ़ता है.

मैं बिना देर किये दीदी के कान को सहलाने लगा। दीदी अपनी आँखें बंद कर मसाज का मजा ले रही थी और मैं उनके कामुक बदन को देखकर वासना से भीगा जा रहा था.

पीठ की मसाज करते समय दीदी के ब्रा का हुक आनंद के रस में अड़चन बन रहा था. इस बार मैंने दीदी से बिना पूछे ही ब्रा का हुक खोल दिया और मैक्सी पूरी शरीर से निकाल दी।

अब मेरी दीदी मेरे सामने पैंटी में थी और उनकी चिकनी पीठ काली रात में चन्द्रमा की तरह चमक रही थी।तभी दीदी घूमकर एकदम सीधी लेट गयी और बोली- राहुल, सामने भी तेल से मालिश कर दो। दीदी के सीने पर आसमानी रंग की ब्रा को हटा कर उनके दूधों को आजाद कर दिया.

इतने बड़े बड़े बूब्स जिंदगी में मैं पहली बार देख रहा था. जैसे ही तेल की कुछ बूंद दीदी के स्तन पर पड़ी, दीदी की सिसकारियाँ बाहर आने लगी और मैं दीदी के मुलायम स्तनों पर हाथ फेरने लगा। दीदी की सांसें तेज होती जा रही थी. और इधर मेरी मैं बिना देर किये उनके निप्पल को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. दीदी कुछ नहीं बोली, वे बस उइ उइ आआ की आवाज निकाल रही थी.

तक़रीबन 15 मिनट दीदी के स्तनों से खेलने के बाद मैं दीदी की पैंटी को नीचे सरका कर दीदी की चिकनी चूत को चाटने लगा। दीदी को भी बहुत मजा आ रहा था.

उन्होंने बोला- बहनचोद … चूत ही चाटेगा या फिर बहन की चूत को चोदेगा भी? चल अपना लंड मेरे मुँह में डाल पहले! और दीदी ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए. फिर मुझे बेड पर खड़ा कर दिया और बेड पर बैठ कर मेरा लंड चूसने लगी.

मुझे बहुत मजा आ रहा था.


पहली बार दीदी का नंगा बदन देख कर मेरा लंड जवाब दे रहा था.

दीदी ने बस 5-6 बार ही मेरा लंड मुँह में अंदर बाहर लिया कि मैं उनके मुँह में झड़ गया।


इस पर दीदी हंस पड़ी, बोली- अभी तू कच्चा खिलाड़ी है, तुझे सिखाना पड़ेगा।


मेरी न्यूड सिस्टर बेड पर दोनों टांगें फैला कर लेट गयी और बोली- चलो मेरी चूत चाटो … जब तक तुम्हारा लंड दोबारा खड़ा ना हो जाये!


15 मिनट दीदी की चूत चाटने के बाद मेरा लंड फिर हरकत में आया और मैंने फटाक से दीदी की चूत में अपना लंड डाल दिया।


पहली बार मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं स्वर्ग में हूँ.

5 मिनट के बाद मैं झड़ने वाला था, दीदी से मैंने कहा.


दीदी ने अपना मुँह खोल दिया और मैं फिर से दीदी के मुँह में ही झड़ गया.

इसके बाद रोज मैं मेरी दीदी की मालिश करने लगा, दीदी मालिश के बाद अपनी चूत चुदाई कराने लगी।


प्रिय पाठको, आपको यह न्यूड सिस्टर Xxx कहानी कैसी लगी? मुझे अवश्य बताएं.

धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments

Close Menu