Ad Code

चरित्रहीन - थोडी सी बेवफाई... अपडेट 3



मंजु सोफे से उठ खड़ी हुई और अपनी ब्रा और पैंटी ले कर बाथरूम में जाने लगी.
राज वहां बैठकर मंजु को देख रहा है. उसने स्टैंडअप भी किया और सीधे मंजु के पास गया, और उसे उसकी कमर से पकड़ लिया. मंजु खुद को मुक्त करने की कोशिश कर रही हैं,
मंजू : "राज प्लीज अब मुझे छोड़ दो मैंने वह सब किया है जो आपने चाहा है,मैंने आपको पूरी तरह से संतुष्ट किया है"
राज मुस्कुराया और कहा “हां मेरी स्वीट मंजु तुमने मुझे बहुत संतुष्ट किया है लेकिन 100% नहीं”
मंजू :“नही राज मैं आपको वह नहीं दे सकती”
राज किसी भी बात को सुनने के मूड में नहीं है. वह मंजु को गोद में उठाकर बिस्तर पर ले जाता है. उसने उसे “लायर” बोला और सीधे उस स्थान ले लिया. उसने मंजु को पूरी तरह से लॉक किया. उसके दोनों हाथ उसके दोनों हाथों को अपने हाथ से पकड़ कर ऊपर कर रहा था. वह उसके चेहरे और होंठों को काटते हुए चूम रहा है. मंजु उसकी पकड़ से भागने की कोशिश कर रही है लेकिन सारा प्रयास विफल चला गया था. उसके मुलायम स्तन उसकी छाती के नीचे दब रहे हैं. राज ने अपने लंड को सही स्थिति में रखा. एक हल्का जोर दिया. लंड ने थोड़ा प्रवेश किया. राज उसके होंठ चूस रहा है. अब उसने थोड़े जोर से चोदना शुरू किया. दो तीन मिनट के बाद वह अपने लंड को बाहर लाता है और पूरी ताकत से जोर लगाता है. मंजु दर्द में चिल्ला रही है. उसने अपना मुँह अपने होंठों से बंद कर दिया. अब वह उसे पूरी ताकत से चोदता है. हर जोर के साथ पूरा बिस्तर हिल रहा है. मंजु कांप रही है और दर्द और खुशी में छटपटा रही है. राज ने उसके होंठों को चूसते हुए, उसके दोनों हाथ नीचे कर दिए और पूरा जोर लगा दिया.
मंजू :“ओह राज आई कान्ट”
राज ने मंजु की बात नहीं मानी - "मुझे पता है कि तुम कर सकती हो ...". उसने अपने कूल्हों से एक जबरदस्त धक्का दिया और फिर उसका लंड उसके शरीर के अंदर था. मंजु एक बच्चे की तरह रो रही थी.
राज : “मेरी स्वीट मंजु… तुमने यह कर दिया है.… तुमने मुझे पूरी तरह से अंदर लिया है… तुम्हारी चुत बहुत गर्म और टाइट हूं… थैंक्स, स्वीटी..मुझे अपनी चूत देने के लिए. मैं आपको एक बात बता सकता हूं,कि माय डियर की तुम्हे आज बहुत मजा आने वाला है”
मेरी बीवी ने राज को कोई जवाब नहीं दिया. फिर भी, वह राज के पूरे लंड को अपने अंदर लेने को बेचैन थी.
अब राज ने अपने लंड को बाहर निकाला, जब तक कि मैं उसके पूरे सर को नहीं देख पाता, इससे पहले कि वो अपने कूल्हों को जोर से हिलाया और उस विशाल काले लंड को आधे से ज्यादा मंजु के गीले छेद में दबा दिया. उसने ऐसा कुछ देर किया जब उसके होंठ मेरी बीवी के होंठ से चिपके हुए थे और उसके हाथ ने उसके नरम स्तन को जोर से पकड़ लिया था और मैं अपनी पत्नी के गले से एक अजीब सा दर्द भरी चीख निकल सकती थी पर राज ने अपने होंठों से उसका मुँह को कसकर बंद कर रखा था.
मैं समझ सकता था कि मेरी बीवी राज के नीचे अपने शरीर को हिलाने की कोशिश कर रही है और वह बहुत हताश दिख रही है, लेकिन राज ने उसे बिस्तर पे कुचल दिया और उसका लंड धीरे-धीरे अंदर-बाहर होता रहा. वह बहुत धीमा था और उसका लंड चाकू सा मेरी बीवी के चुत के छेद को काटता हुआ प्रतीत हो रहा था. उसका हाथ अभी भी मेरी बीवी के स्तन पर था जो उसे भींच रहा था.
मुझे अपनी पत्नी की स्थिति देखकर दया आई. उसके चेहरे से पता चलता है कि राज की चुदाई से उसे कितना दर्द हो रहा है और वह कुछ कह नहीं पा रही थी क्योंकि राज उसके मुंह से मुह चिपका रखा था.
मेरी बीवी आखिरकार राज के होंठों के लॉक से खुद को बचा पाई और अंत में चिल्लाते हुए उसके लंड को देखती हुई बोली- "इसे रोको क्या मुझे मारना चाहते हो!"
राज- “ओह यह उसे प्यार करने जा रहा हैं अब दर्द नही होगा,अब कस के पकड़ो! ”
राज की लार से पूरी तरह चमकते होंठों वाली मेरी बीवी ने उसकी ओर घबराई हुई आँखों से देखा. राज के कूल्हों ने वापस आकर्षित किया और अब मैं उसके लंड पर उसके चुत रस के गीलेपन की नमी देख सकता था.
राज जोर जोर से चोद रहा था अब उसका लंड आराम से अंदर जा रहा था क्यों कि मंजु की चुत पानी छोड़ रही थी और ज्यादा गीली होने लगी थी राज अपने एक्शन के साथ आगे बढ़ता रहा. वह उसकी चूत के अंदर से तब तक हिलती रही जब तक कि उसकी गेंदों ने उसकी चूत को थप्पड़ नहीं मार दिया जब वह नीचे उठी.
उसने अपनी चूत के निचले हिस्से तक पहुँचते ही उसे पकड़ लिया और उसने बिना हिलाए खुद को उसको अंदर कर लिया.
“ओह गॉड, ओह गॉड, अब और नहीं, प्लीज रुक जाओ, प्लीज मत करो”
मेरी बीवी बार-बार रोती रही.वह अगले दस मिनट तक अपनी चुदाई में लगा रहा.
उसने अपने विशाल लंड को पूरी तरह से बाहर खींचा और उसे बार-बार उसके अंदर डाल दीया. लगातार हो रही इस घर्षण से अजीब तरह की आवाजें आ रही थीं. आखिरकार मंजु के शरीर ने उसे जवाब देना शुरू कर दिया. उसका चिल्लाना कम हो गया और आखिरकार, यह कराहना अब सिसकारी में बदल गया.
****
मेरी बीवी के हाथ अब राज की छाती को पकड़ रहे थे और उसके हाथ उसे पीछे छोड़ रहे थे और अब उसके दोनों हाथ उसके कूल्हों और उसके लंड के किनारों को पकड़ कर उसकी चूत में अंदर बाहर कर रहे थे.
मेरी बीवी की चूत से रस निकल रहा था और मुझे लग रहा था कि जैसे राज उसकी चूत का इस्तेमाल करके मेरी बीवी की चूत से तेल निकाल रहा है.
राज : “अब आप इससे प्यार कर रही हैं, क्या आप मेरी स्वीट स्वीट मंजु नहीं हैं? तुम्हारी चूत गीली गीली है, और यह अब मेरे लंड को अंदर खींच रही है, आप मुझे बताये बिना पूरा सुख नही पा सकती, मैं आपके मुँह से सुख की आवाजें सुनना चाहता हूं, अभी और चिल्लाओ”
उसके साथ उसने उसे बहुत जोर से चोदना शुरू कर दिया. मेरी बीवी के मुँह से जोरसे कराहे और चीखे शुरू हो गई.
राज :“मुझे बताओ, मंजु! मुझे बताओ कि तुम इस लंड पर फिर झड़ रही हो”
इस बातों का मेरी बीवी मंजु पर बहुत प्रभाव पड़ा.
मंजु एक ऐसे व्यक्ति के लिए अपने प्रेम रस की बौछार करने वाली थी जो उसका पति नहीं है. उसका सिर बिस्तर से उठ गया था. और वह अपने दाँत पीस रही थी. ताकि उसका मुँह बंद रहे. हर बार हाथ उसकी गांड पर आ जाता और वो जोर से झटके मारती और अपना सर हिला देती जैसे कि ना कहो.
मंजु पूरी तरह से अपनी सूझबूझ खो बैठीं और राज के सीने के नीचे से उसे कस कर पकड़ रही थीं.
राज मेरी बीवी की चूत को पेलता रहा. उसके झड़ते ही उसकी गर्दन की नसें बाहर निकल आईं. वह इसे और अधिक चिल्लाया और वह किसी दया के बिना उसकी चुदाई की स्पीड बढ़ा दिया. वह तीन मिनट से अधिक समय तक झड़ रही होगी और जब उसका ऑर्गेजम खत्म हो गया तो वह बिस्तर पर अपने पैरों के साथ एक कठपुतली की तरह लटक गई. और उसके कूल्हे उसके संभोग के माध्यम से पूरे रास्ते में झूलते रहे.
उसने उसे चोदना बंद कर दिया और अपना लंड उसकी चुदी हुई चूत से बाहर निकाल लिया. उसने उसे आराम करने की अनुमति नहीं दी. वह उसे बालों के साथ पकड़ कर उसे उठाया और उसके गाल पर थपथपाया
राज : "उठो कुतिया .."
मेरी बीवी ने रोते हुए कहा- "अब मैं इसे और नहीं ले सकती."
मंजु- "प्लीज़ राज ... मुझे अभी छोड़ दो ..."
राज : "नहीं, मेरी स्वीट हनी"
और उसने मंजु को डॉगी स्टाइल में किया और उसने पीछे से उसके क्लिट से अपने लंड को ऊपर नीचे रगड़ने लगा. मंजु हांफने लगी.
राज ने उसे फिर से उसे अपने आगे डॉगी की तरह बैठाया. उसने अपनी स्थिति इस तरह बनाई कि वह ड्रेसिंग टेबल के दर्पण से अपना चेहरा देख सके. बड़ी खूबसूरत आँखों वाली मेरी बीवी ने शीशे से राज को देखा
उसने अपना मोटा लंड उसकी चूत के अंदर रखा, उसके कूल्हों को अपनी बाँह से पकड़ लिया. उसने मेरी बीवी की गांड पर हाथ फेरना शुरू कर दिया फिर उसने अपने लंड को उसके अंदर धकेलना शुरू कर दिया. मेरी बीवी ने अपने कूल्हों को ऊपर उठाते हुए बिस्तर पर अपना सिर रख दिया और कराहने लगी क्योंकि वह महसूस कर रही थी कि उसका लंड उसके अंदर गहराई तक जा रहा है. राज ने पीछे से मेरी बीवी के गाल को पकड़ा और उससे कहा- “आईना देखो… मैं तुम्हारा चेहरा देखना चाहता हूँ मैं तुम्हें चोदते हुये..”
मंजु ने राज को दर्पण के माध्यम से अपने स्तन के बीच लटकते हुए मंगल सूत्र के साथ देखना जारी रखा. मैंने देखा कि राज ने अपने लिंग के सिर को मेरी बीवी के गुप्तांग पर रखा.
राज- “अब मुझे देखो…. एक दो तीन…".
राज ने अपने कूल्हे से एक जोरदार धक्का दिया और उसका पूरा लंड मेरी बीवी के अंदर चला गया.
मंजु- "राजलल्लोल्ल्लोप्ल्लोल्ल ... ………………… आआआआआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् ..."
मेरी बीवी रो पड़ी और अपनी आँखें बंद कर लीं, अपने हाथ से चादर को पकड़ लिया. राज ने अपने लंड को पूरी तरह से उसके अंदर डालते हुए उसकी गांड की मालिश शुरू कर दी और कहा- “अपनी आँखें खोलो… और दूसरे राउंड के लिए तैयार हो जाओ…”
मेरी बीवी की आँखों में आँसू थे और उसने शीशे से राज को देखा. राज ने फिर से अपना लंड सर तक खींचा और एक दो तीन को गिना और वापस मेरी बीवी की चूत में कर दिया. मेरी बीवी अब संघर्ष नहीं कर रही थी और मैं देख रहा था कि उसके कूल्हे राज से प्राप्त धक्कों से हिल रहे थे. उसकी चूत अब और अधिक कराह रही थी और उसकी आँखें खुल नहीं रही थीं क्योंकि वह उसे लगातार चोद रहा था.
शीशे के प्रतिबिंब से सीधे उसे घूरते हुए उसने उसकी निर्दयता से चुदाई की. उसके नथुने भड़क गए थे और उसकी सांसें उखड़ी हुई थीं, जैसे वह बहुत सारे शारीरिक काम कर चुकी हो.
राज :"ओह..मंजु !!! ... आप बहुत टाइट और गर्म हो अंदर ... तुम्हारे पास एक सही में चोदने लायक बहुत टाइट चुत है ... मुझे बताओ कि अब कैसा महसूस कर रही हो"
उसने कहा कि जैसे ही वह उसके चेहरे के करीब झुका और उसके कानों में बकवास करना शुरू कर दिया.
वह एक पल के लिए हिचकिचाई और उसके कूल्हों ने उसे तेजी से और जोर से पटकना शुरू कर दिया. उसने अपना हर जोर लगाते हुए बिस्तर से अपना सिर हटा लिया और अपना चेहरा उसकी ओर कर दिया.
वह अपना मुँह उसके मुँह के पास लाता है और फिर उसके होंठ मिले. मंजु ने उसकी जीभ का स्वागत करने के लिए अपना मुँह पूरा खोल दिया. उसके चुम्बन में बहुत जोश और गीलापन था. उसे चूमने के बीच, वह उससे बात करना शुरू कर दिया क्योंकि उसका मुंह उससे मुक्त हो गया.
*******
मंजू :“मैं तुमसे नफरत करती हूँ, राज! … मुझे आपसे बहुत नफरत है… मुझे नफरत है कि आपका लंड मेरे लिए क्या कर रहा है… मैं पागल हो रही हूँ… आपके लंड ने उन जगहों का पता लगाया है जिन्हें कभी नहीं छुआ गया… ओह गॉड….! मुझे तुमसे चुदने के लिए नफरत है ... ओह गॉड ...! "
राज ने अपनी खुरदुरी उंगली से मेरी बीवी के निप्पल को उसके लटकते स्तन से नीचे की ओर खींचा.
राज ने हँसते हुए अपने लंड को और गहरा और सख्त कर दिया क्योंकि मेरी बीवी ने फिर से उसके लंड पर झडना शुरू कर दिया. बिस्तर की चादर को जकड़ कर उसने परमानंद में चादर पर अपना सिर रख दिया.
राज अभी भी उसकी चूत में इतने जोर से धक्के लगा रहा था कि पूरा बिस्तर आगे पीछे हिल रहा था. मेरी बीवी के कूल्हे उसकी राक्षसी चुदाई को पूरा करने के लिए आगे बढ़ रहे थे. मेरी बीवी चिल्ला रही थी और अपने सिर को आगे-पीछे कर रही थी क्योंकि राज के लंड पर झड़ने के कारण उसके गले में नसों के निशान उभर आए थे.
उसने राज को उसके नाम से पुकारना शुरू कर दिया और उसके लंड पर अपने प्यार के रस का स्खलन कर दिया. मैंने देखा कि उसकी जांघ से उसका सारा प्रेम रस टपक रहा था और कुछ बूंदें सीधे बिस्तर की चादर पर गिर रहे थे.
राज ने हँसते हुए कहा - "तुम्हें देखना चाहिए कि तुम मेरे लंड से कितनी बार झड़ी हो ... मंजु .."
एक या दो मिनट के बाद, मेरी बीवी थकी हुई आवाज के साथ- "क्या तुम्हारा हुआ, राज?"
राज “नहीं बेबी….मैं अभी तक नहीं झड़ा हु. आपका प्रेमी राज आपके लिए बहुत वीर्य बनाकर रखा है, तुम्हारा हो गया और अब मेरा होने वाला है. ”
मंजु- "प्लीज राज ... डोंट कम इन मी ... आप मुझसे वादा करो ..."
राज- "चिंता मत करो"
अब राज ने मेरी बीवी को अपनी गोद में बैठाया और फिर से अपना लिंग उसकी योनि के अंदर डाल दिया और मेरी बीवी के साथ चोदना शुरू कर दिया. उसने मेरी बीवी को अपनी मजबूत बांह और मांसपेशियों की छाती से बंद कर दिया और उसके शरीर को उसकी बांह और छाती के बीच बांध दिया.
उसने मेरी बीवी के पूरे गीले छेद पर अपनी चुदाई जारी रखी. मेरी बीवी के चेहरे पर फिर से हताशा और बेचैनी का भाव था क्योंकि उसने फिर अपनी लम्बी चुदाई जारी रखी.
मंजु- "ओह गॉड !!! .. तुम कब झड़ोगे ... ऐसा लगता है कि इसका कोई अंत नहीं है ... मेरे अंदर अब दर्द हो रहा है"
मेरी बीवी को राज के लंड से उसकी चूत पर फिर से उतना ही जोर लग रहा था. उसके चूतड़ डांस कर रहे थे और उसके कूल्हे राज की लोहे की छड़ से प्राप्त होने वाले प्रत्येक वार के साथ उठ रहे थे.
मेरी बीवी ने जोर से सांस लेते हुए कहा- "तुम लड़के नहीं हो ... एक राक्षस हो.."
राज ने मेरी बीवी के गाल को पकड़ कर अपनी जीभ उसके मुँह के अंदर डाल दी और मुँह से मुँह लगाकर पूरा मुँह चूमते हुए बोला- “मेरे जैसा राक्षस तुम्हारे जैसी औरत के लायक है… तुम मेरी औरत हो…”
उसने अपनी चुदाई जारी रखी. इस बिंदु पर, मंजु के चेहरे की अभिव्यक्ति से लगता है कि वह इस यातना को रोकने के लिए प्रार्थना कर रही है.
राज- "मैं आ रहा हूं ..."
मेरी बीवी चीख पड़ी- "लेकिन तुम इसे बाहर निकालने वाले हो, ..."
राज ने हँसते हुए मंजु को बिस्तर पर फेंक दिया और उसका लिंग उसकी योनि के अंदर घुस गया- "मैंने झूठ बोला, डार्लिंग ..."
मेरी बीवी घबरा गई. उसने राज को उसके शरीर से दूर धकेलने की कोशिश की लेकिन वह ऐसा नहीं कर सकी. राज ने उसे कस कर पकड़ लिया और अपने कूल्हों को उसके अंदर दबा दिया.
मंजु रो रही थी- "नहीं..नहीं .." और फिर उसकी आँखें बड़ी-बड़ी हो गईं- "ओह .. गॉड .. तुम सच में मेरे अंदर झड़ रहे हो ... ओह गॉड .. ओह ... मैं प्रेग्नेंट हो जाऊंगी." .प्लीज मेरे साथ ऐसा मत करो ... मैं तुमसे विनती करती हूं ... "
राज लगभग पाँच मिनट तक मेरी बीवी के अंदर एक जानवर की तरह गुर्राते हुये झड़ता रहा. मंजु अपने गर्भ को उसके बीजों से भर रही थी. राज चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान के साथ मेरी बीवी से दूर चला गया. वह संतुष्ट दिखता है.
मंजु अपने पैर फैलाए हुए रो रही थी और राज का वीर्य मंजु की चुत के खुले हुए होंठों से नीचे की ओर लुढ़क गया था, जो आखिरकार उसकी गांड तक जा कर बेड की चादर पर गिर रहा था.
राज : “मैं इससे पहले कभी भी यह सुख नही पाया… यह मेरे पास सबसे अच्छा अनुभव है… मुझे सही में बताइये मंजु, क्या आपको यह पसंद नहीं आया? ”
मंजु ने कुछ जवाब नही दिया . वह अपनी बंद आंख के साथ कुछ समय के लिए वहाँ सोती रही. राज भी थक गया था 15 -20 मिनट के बाद राज भी सो गया. मेरी बीवी धीरे-धीरे जाग गई.वह बिस्तर पे पूरी तरह से नग्न थी.उसने उसके सभी कपड़े और अंडरवियर एकत्र किए और सीधे बाथरूम में चली गई. लगभग 30 से 40 मिनट के बाद वह बाथरूम से बाहर आई, वह चलने के लिए तैयार हो गई. वह सामान्य रूप से नहीं चल सकती थी. लेकिन वह धीरे-धीरे राज को बिना बताए, बिना कोई आवाज किए उस फ्लैट से चली गई. उसने दरवाजा बंद कर दिया और पीछे सो रहे राज और एक मोबाइल कैमरा छोड़ दिया, जिसमें रिकॉर्डिंग अभी भी जारी है.
क्रमश:
May be an image of 1 person and text that says "चरित्रहीन- थोडीसी बेवफाई... अपडेट3"

Post a Comment

0 Comments

Close Menu