Ad Code

चरित्रहीन - थोडी सी बेवफाई... अपडेट 4




मैं कुछ रचनात्मक सोचने की स्थिति में नहीं हूं. लेकिन एक ही मकसद है, बहुत स्पष्ट, मैं बदला लूंगा, पहले मेरी पत्नी से, फिर उस हरामी राज से,दिन गुजर रहे हैं. मैं एक मौके की प्रतीक्षा कर रहा हूं, हमेशा कुछ प्लान बनाने की कोशिश कर रहा हूं कि कैसे बदला लू एक रविवार की सुबह मेरी पत्नी की सबसे अच्छी दोस्त नीलम हमें मिलने के लिए आई क्योंकि उसके पति एक बिजनेस ट्रिप के लिये गये है. मैंने उसका स्वागत किया. नीलम हमारे ड्राइंग रूम में एक सोफे पर बैठी थी वह 30 साल के मध्य की बहुत सुंदर और आकर्षक औरत है. वह शादीशुदा है और उसे एक बेटी है.

पहले तुम्हे इसके बारे में बताते हैं. उसकी ऊंचाई 5'5 है ". 40-.28-38 एक परिपूर्ण एमईएलएफ है उसके शरीर का सबसे आकर्षक हिस्सा उसके होंठ और स्तन है, कोई भी पागल हो सकता है, बस उसके स्तन को छूने के लिए, और उसके होंठ पर चुंबन करने के लिये. मैं उसके साथ बैठ कर उससे बातें कर रहा हु और आंखों के कोने से उसके शरीर का पूरा नाप भी ले रहा हु मैं उसकी क्लीवेज की दरार को देख रहा हूं, और उसका नेवल बहुत ही सेक्सी दिख रहा है आखिर उसने मेरी नजर को नोटिस किया और उसने उसे अपनी साड़ी के साथ ठीक से ढंक लिया है
लेकिन मैं उसके सेक्सी शरीर को बेशर्मो की तरह सिर से लेकर पैर तक ताड रहा हु. अचानक मेरी पत्नी किचन से बाहर आकर उसे अपने साथ अंदर लेकर गयी जब वह अंदर जा रही थी मैं उसके चूतड़ को मस्त हिलते हुये देखता रहा वॉव क्या गांड़ थी उसकी लाजवाब अचानक एक प्लान मेरे दिमाग मे कौंध गया मैंने उस दिन नीलम को अपने ऊपर और कोई भी संदेह नही होने दिया उस दिन. हम अच्छे दोस्त की तरह बातचीत करते रहे. हम तीनो ने साथ बैठकर बातचीत करते हुये रविवार का आनंद लिया नीलम को जरा भी संदेह नही हुआ कि मेरे दिमाग मे क्या चल रहा है
उस दिन की शाम नीलम वापस अपने घर गयी. मैं अपनी योजना को चालू करणा चाहता हूँ योजना का पहला हिस्सा है, नीलम को सिड्यूस करके उसके साथ सेक्स करना. योजना के अनुसार मैं तैयार हूं और कार्रवाई के लिए तैयार हूं. अब मैंने एक टूर के लिए प्लान बनाया. औरअब अपनी टूर में नीलम को जोड़ना होगा. और मैंने अपनी बीवी से बातचीत करके उसे नीलम और उसकी फॅमिली को साथ ले चलने के लिये मना लिया आखिर वह दिन आ गया जब हम हमारे हॉलिडे पे निकल पड़े मैं मेरी बीवी मंजु नीलम, और उसका पति अजीत, सभी बहुत खुश है कि अगले दस दिन हम बहुत अच्छा समय बिताने वाले है टिकट और होटल की व्यवस्था मैने पहले ही कि थी सबने मुझे थैंक्स कहा सब बहुत खुश हैं, लेकिन मैं जानता हूं इस टूर मे क्या होने वाला है मैं नीलम को सिड्यूस करके अपने बेड पर ला कर चोदने वाला था
मैं सही वक्त और सिचुएशन की राह देख रहा था हम अपने होटल पहुंच गये मैंने दो कॉटेज बुक किये थे एक दूसरे से सटकर एक हमारे लिए और एक नीलम और अजीत के साथ लंच करने के बाद हम अपने अपने कॉटेज में चले गये
मंजु बहुत हैरान थी कि इतने अच्छे वातावरण में भी मैने उसे सेक्स के लिये नही कहा क्यों कि जब भी हम कही ट्रिप पे जाते थे तो मैं अपना पूरा वक्त उसे प्यार करता था किंतु अब वह् बार बार मुझे हिंट दे रही है पर मैं उसमे कोई दिलचस्पी नही ले रहा था. जबसे वह राज के साथ है यह मुझे पता चला था तबसे ही मैने उस हाथ भी नही लगाया था सेक्स तो बहुत दूर की बात है और शायद टेन्शन की वजह से मंजू भी नोटीस नही कर पाई थी वरणा हफ्ते मे चार दिन तो हम जोरदार सेक्स करते ही थे.
शाम को हम चारों एक अच्छी सैर के लिए गए. जब हम वापस लौटते हैं तो हम अपने कॉटेज के सामने बैठते गये. हम ड्रिंक लेने लगे. और अच्छी शाम का आनंद लेने लगे.
मैं अपने साथ नींद की गोली और सेक्स की गोली ले गया था. मैं अजीत और मंजु के ग्लास में चुपके से दो दो नींद की गोलियां मिला दी ताकि वे सुबह से पहले न उठें. और नीलम के पेय में दो सेक्स पिल्स मिला दी. वे कुछ भी नहीं जान पाये. कुछ समय बाद लगभग 10 बजे अजीत और मंजु को नींद आने लगी. इसलिए हम अपने-अपने कमरे में चले गए.
लगभग 11बजे मैं नीलम को गुड नाइट मैसेज सेंड कर देता हूं और उसके उत्तर की प्रतीक्षा करता हूं, क्योंकि मुझे पहले से पता है कि दवा अपना प्रभाव दिखा रही है, और वह अब तक नही सोई है.
कुछ मिनट बाद मुझे नीलम से एक रिप्लाय मिला.
नीलम: क्या तुम सो रहे हैं?
सतीश: नही मुझे नींद नही आ रही..
नीलम: मुझे भी नींद नहीं आ रही है.
सतीश: फिर आते है बरामदे में, हम कुछ “टाइम पास”करते है
नीलम: ठीक है….. मैं आ रही हूँ….
मुझे खुशी है कि मेरी योजना काम कर रही है. मैं दो ग्लास और स्कॉच की बोतल ले कर बरामदे की ओर चल पड़ा.
नीलम: हाय
सतीश: प्लीज सीट. कुछ पी लो.
नीलम ने झिझकते हुए गिलास लिया और मेरे साथ पीने लगी.
नीलम: अच्छा बताओ सतीश, अभी भी तुम क्यों जाग रहे हो.
सतीश: यह मौसम सोने के लिए नहीं है..
नीलम: फिर…
सतीश: किसी को बहुत करीब लाने का है, ..बहुत करीब
और सीधे उसकी तरफ देखा. वह दवा के कारण पहले से ही उत्तेजित थी, हम एक-दूसरे को तेज नज़र से देख रहे हैं. मैं उसकी आंखे और चेहरा पढ़ने की कोशिश कर रहा हूं. क्योंकि वह बहुत संस्कारी है, और किसी भी दूसरे को उसके साथ छेड़खानी करने की अनुमति नहीं देती है. इसलिए अगर मैंने कुछ भी गलत किया तो मेरी योजना फेल हो जाएगी. मुझे यह बहुत धीरे-धीरे करना होगा अन्यथा मैं फेल हो जाऊंगा.
नीलम: ओके ओके मैं समझती हूँ, फिर तुमने अपनी पत्नी को क्यों सोने दिया.
सतीश: तुमने भी तो अपने पति को सोने की अनुमति दी हैं, अब तुम खुद को अकेला महसूस मत करो.
नीलम: अकेली कहा मैं तो तुम्हारे साथ बैठी हूँ.
सतीश: मेरे साथ बैठना और अपने साथी के साथ बैठना एक ही बात नहीं है. तुम अपने पति के साथ जो चाहें कर सकते हैं. लेकिन मेरे साथ ऐसा संभव नहीं है.
नीलम मुझे बहुत दुखी होकर देख रही थी. मुझे पता है कि दवाई अपना असर दिखा रही है और नीलम को अब अच्छी चुदाई की जरूरत है. मैंने मौका लिया और उसे अपने साथ गार्डन एरिया में आने का अनुरोध किया. क्योंकि उसे मुझसे पहले खुलने के लिए कुछ अंधेरा चाहिए.
नीलम ने सिर हिलाया और मेरे साथ बगीचे की ओर जाने लगी. उसके बाद हम बगीचे में एक बेंच पर बैठे. मैं उसका चेहरा देखने लगता हूं. उसकी खूबसूरत आँखें, खूबसूरत होंठ मुझे आकर्षित करते थे.
मैंने नीलम से पूछा, "नीलम क्या मैं तुम्हें कुछ बता सकता हूँ?"
नीलम: हाँ
सतीश: "नीलम, मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता, मुझे लगता है कि मैं तुम्हे प्यार करता हूँ और मैं हर समय तुम्हारे बारे में सोचता रहता हूँ". तुम कितनी सुन्दर हो.
वह यह सुनकर वास्तव में हैरान रह गई और कुछ इस तरह कहने लगे कि "सतीश देखो, मैं उस भावनाओं की सराहना करती हूं लेकिन यह हमारे लिए अच्छा नहीं है. तुम्हे अपनी पत्नी को धोखा नहीं देना चाहिए और मैं भी अपने पति को धोखा नहीं दे सकती. इसलिए तुम को खुद पर नियंत्रण रखना चाहिए. घर पर इतनी सुंदर पत्नी है तो कृपया उसकी देखभाल करो ”
लेकिन मैंने कहा "मैं मानता हूं कि मेरी पत्नी बहुत सुंदर है... लेकिन मुझे तुम उससे ज्यादा सेक्सी लगती हो. मैं तुम्हारी तरफ बहुत ज्यादा आकर्षित हूं और मुझे यह भी पता है तुम भी मुझे पसंद करती हो. मुझे खुलकर बताओ कि तुम मुझे पसंद करती हो या नहीं ?? तुम मेरे जैसा नहीं सोचती हो तो मैं तुमसे दोबारा नहीं पूछूंगा. मैं तुम्हें अपना चेहरा फिर से नहीं दिखाऊंगा. "
मुझे लगा कि मेरा नाटक काम कर रहा है.
वह दुविधा में थी कि क्या जवाब दें.
वह मेरी भावनाओं को आहत नहीं करना चाहती थी, इसलिए उसने कहा "देखो सतीश, मैं निश्चित रूप से तुम्हें पसंद करती हूं, लेकिन हम ऐसा कुछ भी नहीं कर सकते जो हमारे परिवारों को बर्बाद कर दे. मेरे पास एक बहुत ही प्यार करने वाला पति है और मैं उसे धोखा नहीं देना चाहती और ना ही अपने दोस्त को धोखा देने दूंगी "
लेकिन मैं कहता रहा कि मैं उसके साथ प्यार में पागल था और किसी भी कीमत पर उसे चाहता था. वह मेरी आँखों में वासना देख सकती थी जो मैं उसे चोदना चाहता था. वह इस पॉइंट पर रुकना चाहती थी.
नीलम बेंच से उठी और मुझे जवाब दिए बिना अपनी कॉटेज की ओर चली गई. मुझे पता है कि अगर मैं यह मौका चूक गया तो मैं उसे कभी नहीं चोदूंगा. मैं जल्दी से उसका हाथ पकड़ कर उसे अपने करीब ले आया. वह भागने की कोशिश कर रही है लेकिन मैं उसे कोई मौका नहीं देता. मेरी हरकत के कारण नीलम कांप गई. उसे इस तरह की कोई उम्मीद नहीं थी.
मैंने अपनी पकड़ मजबूत कर ली. बहुत अस्थिर रहने के कारण, उसने अचानक साँस लेना शुरू कर दिया, मैंने अचानक अपना एक हाथ ऊपर की ओर सरकाया और उसके दाहिने स्तन को ड्रेस के ऊपर से पकड़ लिया और सहलाने लगा. उसने विरोध करने की कोशिश की लेकिन मैंने उसे कस कर पकड़ लिया.
उसने किसी तरह खुद को घुमाया और विरोध करने की कोशिश की और मुझसे कहा कि मैं तुरंत यह सब बंद कर दूं लेकिन वह वासना से भरी थी. मैंने उसे अपनी ओर खींच लिया और इससे पहले कि वह प्रतिक्रिया दे पाती, मैंने अपने जलते होंठ उसके होठो के ऊपर रख दिए और बहुत देर तक उसे जोश से चूमता रहा.
उसे घुटन महसूस हुई और उसके होंठ दूर चले गए... लेकिन केवल कुछ सेकंड के लिए. मैंने फिर से उसे एक लम्बा जोश भरा चुंबन दिया... फिर बार-बार जब तक की वह कमजोर नहीं हो गई. उसने सिर्फ मेरी ताकत के खिलाफ कदम उठाया था
मैने अपने मजबूत शरीर से उसे जकड़ लिया था उसके स्तन मेरी छाती में धंस गये थे और उसका पेट मेरे पेट से चिपक गया था उसका शरीर मेरे शरीर से एक दम फिट हो गया था वह बात नहीं कर सकती थी, वह यौन तनाव को महसूस कर रही थी जिसे उसने अपने जीवन में कभी महसूस नहीं किया था लेकिन साथ ही उसे पता था कि यह गलत था.
मेरा पूरा होंठ बार-बार छूने से उसका पूरा शरीर तन गया. हमारे होंठ एक साथ पिघल गए जैसे कि वे एक हो रहे थे. सच कहूँ तो मुझे अपनी ज़िंदगी में पहली बार किस में इतनी गर्म जोशीले किस का मज़ा आया. मैंने अपनी जीभ को उसके मुँह में धकेल दिया और उसे अपने पास खींच लिया क्योंकि मैंने उसे फिर से रगड़ना शुरू कर दिया. यह अच्छा लगा.
लेकिन मुझे पता था, वह मुझे रोकने की कोशिश करेगी. उसने मुझे और जोर से धक्का दिया, और भागने की कोशिश की. लेकिन मैंने उसे बहुत कस कर पकड़ रखा था. शराब और दवा के कारण वह मुझे बाहर नहीं धकेल सकती, लेकिन फिर भी अपना प्रतिरोध दिखाती रही. मैंने उसे कस कर पकड लिया, अपना चेहरा करीब लाया और उससे कहा कि आई लव यू.
वह अब कोई ठोस निर्णय नहीं लेती है. क्योंकि दवा और शराब के कारण उसे एक अच्छी चुदाई की जरूरत है, लेकिन उसकी आत्मा उसे ऐसा करने की अनुमति नहीं दे रही है. वह झिझक रही है. अंत में उसने चुप्पी तोड़ी.
नीलम : सॉरी, मैं तुम्हे इसके लिए अनुमति नही दे सकती हूं क्योंकि मैं शादीशुदा हूं, और मैं उससे बहुत प्यार करती हूं. मैं अपने पति को धोखा नहीं दे सकती.
मैंने अपने चेहरे को उसके पास लाया और उसके गालों पर एक चुंबन लिया. मैं उसके गाल, कान चाटने लगा. वह मुझे रोकने की कोशिश कर रही है. लेकिन वह असहाय है. अचानक मुझे याद आया कि मुझे हमारे सेक्स सीजन का एक वीडियो चाहिए अन्यथा मेरी योजना फ्लॉप हो जाएगी.
10 मिनट के बाद. मैं रुक गया और सीधे उसकी आंखों में देखणे लगा.
मैंने उसे हमारे कमरे में आने के लिए कहा ताकि हम इसे निपटा सकें. वह कोई भी फैसला लेने से हिचकिचाती है. क्योंकि वह डरती थी कि कोई भी हमें देख सकता है और हम गॉसिप के लिए एक विषय होंगे और दूसरे में वह डरती है कि मैं उसे जबरदस्ती चोद सकता हूँ.
मैं उसकी दुविधा को समझ गया और उससे कहा, मंजु हमारे कमरे में सो रही है इसलिए मैं तुम्हें किसी भी चीज के लिए मजबूर नहीं करूंगा.
इसलिए वह आखिरकार मेरे साथ आने को तैयार हो गई.
उसने सोचा कि मेरे कमरे में मंजु भी सो रही है. इसलिए वह सुरक्षित रहेगी. और किसी को कोई सिन क्रिएट करने के लिए कोई मौका नहीं है.
हम अपने कमरे में दाखिल हुए. मैंने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया.
नीलम ने झट से मेरी ओर देखा.
बहुत धीरे-धीरे उसने मुझसे कहा, "सतीश कुछ भी करने की कोशिश न करना अन्यथा मैं मंजु को जगाऊंगी, और तुम्हारा पारिवारिक जीवन बर्बाद हो जाएगा."
मैं मुस्कुराते हुए उसके पास गया और उसके बगल वाली सीट पर बैठ गया. मैंने उससे कहा, “नीलम तुम पहले जा कर उसे जगाओ. नीलम को उसके कानों पर विश्वास नही होता वह मुझे एक उलझन भरी नजर से घूरती है. मैंने उससे कहा कि मेरे लिए उसे जगाओ. वह मंजु के पास गई और उसे जगाने की कोशिश की. लेकिन वह दो नींद की गोली खाकर सोई है वह नहीं जानती है कि वह घहरी निंद सो रही है. उसे सुबह तक कोई भी नहीं जगा सकता.
नीलम ने आश्चर्य से मेरी ओर देखा. मंजु क्यों नहीं जाग रही है?
“मेरी प्यारी नीलम, मैंने उसके ड्रिंक में नींद की गोलियां मिला दीं. मंजु और तुम्हारे पति अजीत सो रहे हैं. सुबह से पहले कोई नहीं उठेगा.”मैंने उसे कहा और उसकी आँखों में देखते हुए मुस्कुराया.
नीलम समझ गई कि वह फंस गई है.
मैं सीधे उसके पास गया, और उसे पीछे से गले लगाया.
वह अलग हो गई और कमरे से भागने की कोशिश की. लेकिन मैंने उसे पकड लिया.
मैं उसे कमरे के कोने में ले गया और उसे दीवार से सटा कर. उसके दोनों हाथों को मेरे बाएँ हाथ से बहुत कसकर पकडा. वह अब कुछ नही कर पा रही है. मैंने अपने दाएं हाथ से उसके बालों को कस कर पकड़ रखा था और उसके होंठों पर एक चुंबन लगाया. वह हांफणे लगी, वह विलाप कर रही है और मुझसे उसे छोड़ने का अनुरोध कर रही है लेकिन मैं उसे छोड़ने के लिए तैयार नहीं हूं.
धीरे-धीरे वह गरम होने लगी और मेरा साथ देणे लगी. हम अब एक-दूसरे को बहुत जोश से चूम रहे हैं. कुछ देर मैं उसके होंठ चाटता रहा. हम एक-दूसरे के होंठ चूस रहे हैं. एक दूसरे के होंठ चबा रहे है. मेरी जीभ उसके मुँह में घुस गई. वो मेरी जीभ को मीठे लॉलीपॉप की तरह चूस रही है. मैं भी उसके होंठों और जीभ को चूस और चबा रहा हूँ. लगभग 20 मिनट से हम उस स्थिति मे रहैं.
अब मैंने अपने बाएं हाथ से उसके दोनों हाथ उसके सिर के ऊपर रखे. हम अभी भी स्मूच कर रहे हैं.
इससे पहले कि वह कुछ समझ पाती मैंने उसकी गर्दन को चाटना शुरू कर दिया. उसने एक हाउस कोट पहन रखा है. मैं उसके पूरे चेहरे और गर्दन पर चाटने और चूमने लगा. उसका चेहरा और गर्दन मेरी लार से दमक रही है.
मैं उसकी क्लीवेज की दरार के ऊपरी हिस्से को चाटने लगा. वह कांप रही है, लेकिन अपने तुम को मेरी पकड़ से बाहर नहीं निकाल पा रही है. धीरे-धीरे मैंने अपना दाहिना हाथ उसके हाउस कोट की रस्सी पर रख दिया. उसे उसके कंधे से बाहर निकाला और कोने में फेंक दिया.
वह आनंद से झूम रही है लेकिन फिर भी उसने मुझे रोकने की कोशिश की.
उसके हाथ अब ढीले पड़ गये थे
पहले ही मैंने अपने दाहिने हाथ से उसके बायें स्तन को रौंद डाला और उसकी हौसला अफजाई करने लगा और उसी समय उसकी गर्दन और कंधे को चाटते हुए वह मेरे नाम के साथ कराह रही है... "नही सतीश प्लीज नहीं..... ओफ्फफ्फ़…..सतीश….. औफ़ो... ओफ़्फ़ आह हहह. "
मैंने चाटना बंद कर दिया, और सीधे उसकी आँखों में देखा. एक पल के लिए हम अपनी सारी गतिविधियों को रोक देते हैं. हम एक शब्द भी नहीं बोल रहे हैं लेकिन हमारी आँखें बात कर रही हैं.
अचानक मैंने उसे कसकर पकड़ लिया और पूरी ताकत से उसके होंठों को काटना शुरू कर दिया, इससे पहले कि वह खडी हो पाती मैं उसके नाइट गाउन को पकड़ कर एक बार में अलग कर दिया. यहाँ मेरी ड्रीम गर्ल केवल अपनी लाल ब्रा और पैंटी में खड़ी है. उसका गोरा रंग और लाल रंग की ब्रा एक बेहतरीन कंट्रास्ट है.
मैं उसकी तरफ देख रहा हूं. वह मेरी आँखों में वासना देख सकती है.
वह अपने हाथ से खुद को ढंकने की कोशिश कर रही है, जिससे वह और अधिक आकर्षक हो गयी.
मैंने जल्दी से अपनी टी शर्ट और पतलून खोल दी और बॉक्सर में आ गया. मेरे शॉर्ट्स में उभार को देखकर वह डर गई.
मैं उसके पास आया और उसके पूरे शरीर को अपने दोनों हाथों से महसूस किया. मुझे कहना होगा कि उसकी त्वचा मक्खन की तरह चिकनी है. मुझे लगता है कि उसके शरीर का हर हिस्सा अभी भी उसकी ब्रा और पैंटी नहीं खोल रहा है, क्योंकि यह एक शैतान योजना है.
वह उसे छोड़ने की गुहार लगा रही है. लेकिन जब वह समझती है कि बचने का कोई रास्ता नहीं है तो वह मुझसे अनुरोध करना शुरू कर देती है...
नीलम: सतीश प्लीज मुझे छोड़ दो.
सतीश: नीलम मुझे इस तरह मत छोड़ो. मैं मर जाऊँगा.
नीलम: ठीक है सतीश मैं तुम्हारी मांग पूरी कर दूंगी लेकिन तुम्हें मुझसे वादा करना होगा कि तुम मेरे अंदर नहीं घुसोगे और मेरी चुदाई नहीं करोगे.
मुझे याद है कि मेरी पत्नी ने राज से पहले भी यही बात कही थी.
मैं सहमत हूं और उसे सोफे पर ले गया, लेकिन इससे पहले मैंने अपना मोबाइल कैमरा टेबल पर रख दिया और रिकॉर्डिंग शुरू कर दी. नीलम को इस के बारे में पता नहीं है.
मैंने धीरे से अपने होंठ ले जाकर उसके होंठों पर रख दिए और धीरे-धीरे उसके होंठ चूसने लगा. उसी समय मैं उसके दोनों स्तन को बारी-बारी से ब्रा के ऊपर से दबा रहा था. उसके निप्पल खड़े हो गए थे, और मैं उसकी पैंटी पर एक गीला पैच देख सकता था.
मैंने अपना हाथ उसकी ब्रा में घुसा दिया. उसके बायें बूब को पकड़ कर दबाने लगा. वह हांफ रही है. धीरे-धीरे मैंने उसकी निपल्स को अपनी दो उंगली से मसलं दिया. उसकी निपल्स को मेरी दो उंगली में ले लिया और घुमाया. यह पूरी तरह से सीधा और आकार में बड़ा है. मैंने उसके निपल्स को पिंच किया. वह कराह रही है. मैंने अपना बायाँ हाथ घुमाया और उसे वापस ले गया. मैंने ब्रा का हुक खोल दिया. उसने अनिच्छा से मुझे अपनी ब्रा हटाने की अनुमति दी. मैं उन प्यारे खरबूजे को देखकर पागल हो गया था. मैं दुनिया की हर बात भूल गया. लाल चेरी के साथ उसके निष्पक्ष नरम स्तन. मैंने उसके दोनों निप्पलों को गुदगुदी की, उसने आँखें बंद कर लीं और कराह उठी.
मैं अपने मुँहसे कई मिनटों तक उसके निप्पलों पर अपनी जीभ फेरता रहा फिर मैं अचानक उसके दायें निप्पलों को चूसने लगा और साथ ही साथ अपनी उंगली के नाख़ून से उसके बाएँ निप्पल को भी रगड़ने लगा. मैं उसके पूरे ग्लोब को चबाने लगा. इधर और उधर मैं अपना दंश छोड़ता रहा. वह यह और ज्यादा सहन नही कर सकती थी लेकिन मैं उन मीठे स्तन को छोड़ने के मूड में नहीं हूं. मैं बहुत मेहनत से दबा रहा था. वह दर्द और खुशी में चिल्ला रही है. मैं उसके दोनों स्तन को लगातार चूस रहा हूँ. उसके निप्पलों को अपने दांतों से काटते हुए. वह कराह रही है और मुझे उसे छोड़ने के लिए कह रही है. लेकिन वो मीठे गुड़ मुझे पागल कर रहे हैं. मैंने अपनी सारी ऊर्जा लगा दी और उसके स्तन को पागलपन होकर चूसने लगा. वह परमानंद के साथ झटके मार रही है और आखिरकार उसका पहला ऑर्गेज़म था. वह सोफे पर लेट गई, और आराम करने लगी. लेकिन मैंने अपने होंठ और जीभ से उसके स्तन पर अपना आक्रमण जारी रखा. कुछ मिनट बाद उसने अपनी आँखें खोली, और सीधे मेरी आँखों में देखा.
अचानक उसने मेरे बॉक्सर के ऊपर से मेरा लिंग पकड़ लिया और कहा "मैं तुम्हें एक अच्छा ब्लोवजोब दूंगी लेकिन तुम्हें मुझसे वादा करना होगा कि तुम उसके बाद मुझे छोड़ दोगे और मुझे चोदने की कोशिश नहीं करोगे."
मैंने दुर्बलता से सिर हिलाया और कहा कि "ठीक है."
मुझे याद है कि नेचर वही कहानी फिरसे दोहरा रही है जो पहले मेरी पत्नी के साथ हुई थी.
मैंने अपना बॉक्सर खोला. नीलम ने मेरी दोनों टाँगों के बीच में पोज़िशन ली. वह मेरा लंड चूसना शुरू कर देती है.अंडो को भी चाट रही है. कुछ समय वह मेरी गेंदों के साथ खेल रही है. वो मेरे पूरे लंड को अपने मुँह में लेकर जोर जोर से चूस रही है. मैंने उसे अपने रॉड को उसके स्तन में लेने के लिए कहा और मुझे एक अच्छा बोब्स फक दे. उसने मेरी बात मानी और मुझे एक अच्छा बोब्स फ़क दिया और मेरे लंड के सुपारे को भी चाट लिया. लगभग 10 मिनट मैंने उसके स्तन की चुदाई की, फिर से उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया, और मुझे अपने जीवन भर का सबसे अच्छा ब्लोवजोब दे दिया, जो मैंने पहले कभी अनुभव नहीं किया था. मैं सातवें आसमान में हूं. मैंने कभी ऐसे आनंद का अनुभव नहीं किया. वो बहुत माहीर लंड चूसने वालि है.
मैने देखा मेरी ड्रीम गर्ल पैंटी को छोड़कर पूरी तरह से नग्न है. स्तन, चेहरा, गर्दन सभी मेरी लार से दमक रहे हैं, उसके स्तन नीचे लटक रहे हैं, और मेरी छडी उसके मुंह के भीतर उसके होंठों से घिरी हुई है.
मेरा हाथ भी उसके मस्त स्तन को मसलने में व्यस्त हो गया. कुछ देर मैंने उसके निप्पलों को भींच लिया.
लगभग 20 मिनट से अधिक वह मेरी गेंदों और मेरे लंड को चूम रही है, चाट रही है. मैं स्खलन की कगार पर हूं. मैंने उसका सिर कस कर पकड़ लिया और अपना माल उसके मुँह में छोड़ दिया.
वह मेरा सारा तरल पदार्थ निगल रही है.
वह अब सोफे पर अपने सिर को रख कर आराम कर रही है और अपनी सांसो को पकड़ने की कोशिश कर रही है. उसके स्तन हर सांस के साथ ऊपर-नीचे होते रहते हैं.
मैं धीरे से उसके स्तन दबा रहा था. मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसे सोफे पर ले आया.
अब मेरी बारी है. मैंने धीरे से उसकी पैंटी के ऊपर से उसके योनि होंठों पर अपनी उंगली फिराई और उसके निप्पलों को चूसने लगा. वह परमानंद के साथ सोफा पकड़ रहा है. धीरे-धीरे मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी के अंदर डाला और पहली बार सीधे उसकी चूत के होंठों को छुआ. उसकी चूत से रस बह रहा है.
मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसे चोदना शुरू कर दिया. मेरा बायाँ हाथ उसके दोनों स्तन को मसलने में व्यस्त है. मैं उसके सीने से उसके निपल्स को चुसने की कोशिश कर रहा हूँ. कुछ देर वह दर्द से रो रही है और कभी वह खुशी से कराह रही है. मैं उसकी योनी को मसाज करने लगा. मैं पूरी स्पीड से उसकी चूत में उंगली करने लगा. वह अपनी सांस पर नियंत्रण नहीं रख पा रही थी. वह वासना से उछल रही है. उसकी कमर सोफे से ऊपर आ गई. उसका रस मेरे हाथ पर बह रहा है. 10 मिनट के बाद वह खुशी से कांप रही है. उसने अपने होठों को काट लिया और मेरी पीठ को अपने नाखून से मोड़ दिया, अंत में वह अपने दूसरे ऑर्गेजम से मिली.
वह अब सोफे पर नग्न है, आंख बंद करके, और अपनी सांसो को काबू करने की कोशिश कर रही है.
उसके पैर अलग अलग खुले हुये है और उसकी योनि से रस बह रहा है. क्या प्यारा सिन दिख रहा है. फिर से मेरे लंड को अपनी शक्ति मिल गई और सीधे खडा हो गया, जैसे कि वह सुंदरता को सलाम कर रहा हो.
मैं उसके पेट पर नाभि के करीब चला गया. वहां एक चुंबन लगाया. वह बस नज़रों का आनंद ले रही है. मैं उसके पेट क्षेत्र पर सभी जगह चाटना शुरू कर दिया हैं. उसने अपना हाथ मेरे सर पर रखा और धीरे से हिलाने लगी. मैंने फिर से उसके स्तन को सहलाया. मैंने उसके टीले के निचले हिस्से को चाटना शुरू कर दिया. मैंने टेबल से एक आइसक्रीम कप लिया. कुछ आइसक्रीम ले ली और उसके निपल्स पर डाल दिया. वह ठंड से कांप रही है. मैं अपने चेहरे को उसके निपल्स के करीब लाता हूं, और मेरे मुंह से गर्म हवा उड़ाता हूं. वह अपने निपल्स पर गर्म और ठंडा दोनों महसूस कर रही है. उसके निप्पल खड़े हो गए. उसके मुँह से कुछ मद्धम आवाज आ रही है. मैंने अपनी जीभ उसके निप्पलों पर रखी और धीरे से उसे साफ किया. आइसक्रीम ज्यादा स्वादिष्ट लगती है. मैं उसके दोनों स्तन को फिर से चूस रहा हूँ. साथ ही उन्हे जोर से दबा भी रहा हू. मैं उसके खूबसूरत स्तन छोड़ने के लिए तैयार नहीं हूं. मैं उन्हें प्यार करता था. मैंने उसके दूध को हर एक इंच चाटा और चूसा.
वह अब फिर से हार्ड बना हुआ है. मैंने उसकी चूत के होठों को मसल दिया और एक चुम्बन लगाया. मैं उसकी चूत के होठों को चाटने लगा और कुछ बार उसके जी स्पॉट को चूसने लगा. कुछ देर मैं उसकी क्लिट को चाटता और सहलाता रहा. उसके लेबिया को भी एक ही इलाज मिलता है. फिर से वह धीरे-धीरे उत्तेजित होती है. वह बेचैन और सुपर हॉर्नी हो जाती है.
मैंने उसकी चूत पर अपना प्यार जारी रखा. उसकी चूत के होंठों को चूम लिया. उसकी चूत को चूसते हुए कभी-कभी मेरी जीभ उसके चुत के छेद में घुसा दी. उसने मेरा सिर पकड़ कर बाहर धकेलने की कोशिश की. लेकिन उसके कमजोर विरोध मे कोई दम नहीं है. 10 मिनट के बाद वह फिर से बेचैन होने लगी. वह चिल्लाना शुरू कर देती है "सतीश मुझे चाटो, मुझे जोर से चाटो, मेरी चूत को खाओ", वह अपने तीसरे ऑर्गेजम को पूरा करने के लिए तैयार है.
अचानक मैंने अपनी कार्रवाई रोक दी. उसने खुद को नियंत्रित नहीं किया. वो अपनी उंगली से अपनी चूत में ऊँगली करने लगी. लेकिन मैं एक कैसे करने दे सकता था. मैंने उसके हाथ को कस कर पकड़ रखा था, ताकि वह अपने ऑर्गेजम को पूरा न कर सके. वह हिंसक रूप से कूद रही है, लेकिन असहाय थी.
अब मुझे पूरा यकीन है कि मैं उसे चोद सकता हूँ. मैं उसके ऊपर कूद गया और अपना स्थान ले लिया.
मैंने उसके दोनों हाथ थामे और धीरे से अपना लंड उसके लव होल में घुसाया. यह बहुत तंग है. मेरा आधा लंड उसके अंदर घुस गया. वह मेरे कृत्य को सोचने या विरोध करने की स्थिति में नहीं है. उस स्थिति में मैं कुछ देर रहा और उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया, और उसके स्तन सहलाने लगा. अगल-बगल में मैं स्लो स्ट्रोक दे रहा हूं.
वह सिसक रही है, "सतीश मुझे छोड़ दो, मुझे मत चोदो, तुमने मुझसे वादा किया था, उफ्फ्फफ्फ्फ़... नहीं सतीश,... प्लीज मैं तुम्हें एक और ब्लोवजोब दूंगी लेकिन मुझे चोदो मत..." मैं शादीशुदा हूं, कृपया मुझे बर्बाद मत करो मेरी लाइफ …….. उफ़्फ़फ़फ़ सतीश प्लीज नही…. नहीं …आहहहह...उफ़्फ़फ़फ़
मैंने धीरे-धीरे अपने लंड को बाहर लाया, मेरा लंड उसके प्यार के रस से दमक रहा है. मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए, उसके स्तन बहुत कस कर पकड़ लिए और पूरा जोर लगा दिया और मेरा लंड पूरा उसकी चूत में घुस गया. मैंने अभी उसकी चूत को फाड़ दिया. वह लगभग हवा में उछलती है. वह चिल्लाने की कोशिश कर रही है लेकिन मैंने उसके होंठों को कस कर पकड़ लिया. कुछ भिनभिनाहट की आवाज आई. मैं देख सकता हूं कि आंसू उसकी दोनों आंखों से नीचे गिर रहे हैं. मैं कुछ पलों के लिए ऐसे ही रहा. और उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और उसके स्तन को बहुत ही कामुकता से दबाने लगा. धीरे-धीरे उसका दर्द दूर हो गया. वह अब मेरे लंड से पूरी तरह से मिलने के लिए अपने कूल्हों में फ्रोल और बैक मोशन शुरू कर रही है. मैंने उसे जोर से चोदना शुरू कर दिया. हर जोर के साथ वह सोफे से कूद रही है. मैंने बेरहमी से उसकी कसी हुई चूत पर हाथ फेरा. मैं 30 मिनट के लिए उसके लव होल को तेज़ चोद रहा हूं, पहले से ही वह अपने प्यार के रस को बिना समय के छोड़ देती है. वह अब बहुत थक चुकी है. मेरी कार्रवाई को रोकने के लिए उसके पास कोई शक्ति नहीं है. उसका हाथ मुर्दे की तरह सोफे पर पड़ा था.
मैं उसे पूरी ताकत से चोदता रहा. कुछ मिनट बाद फिर से उसने अपनी आँखें खोली, और सक्रिय रूप से भाग लिया. “ओह सतीश तुम बहुत अच्छे हो. मुझे जोर से चोदो लेकिन मेरे अंदर अपना रस मत छोड़ना. ”
मैं मुस्कुराते हुए जोरदार तरीके से चोद रहा हूँ. मैं उसके शरीर से उसका सारा प्रेम रस निकालने की कोशिश करने लगा. मैं चरमोत्कर्ष पर पोहोच गया. मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर टिका दिए, उसकी दो ग्लोब को अपने हाथ में ले लिया और अपने लंड को उसकी योनि के अंदर तक ठोक दिया.
मैं उसके लव होल के अंदर अपना सारा रस भर रहा हूं. वह मेरे लिंग को बाहर निकालने की कोशिश करती है, लेकिन वह असफल रही. मैं 3 से 4 मिनट के लिए स्खलन करता रहा और अपने बीज के साथ उसके लव होल भर रहा हूं.
मैं उसके बगल में वहीं लेट गया. वह अर्ध चेतन अवस्था में सो रही है.
अब रात के 2 बज रहे हैं. पिछले 2 घंटे से हम चुदाई कर रहे हैं. अभी भी मेरी पत्नी बिस्तर पर हमारे सामने सो रही है.
नीलम सोफे पर नंगी लेटी हुई है. उसका सारा शरीर मेरी लार से दमक रहा है. उसके स्तन लाल हो गये हैं. उसके योनि के होंठों से बहते प्रेम रस का हमारा मिश्रण नीचे बेड शीट गीली कर रहा था. उसके होंठ थोड़े सूज गये हैं. यहाँ और वहाँ काटने के निशान है उसकी बंद आँखों से आँसू लुढ़क रहे हैं.
कुछ मिनट बाद नीलम सोफे से उठ गई. सीधे बाथरूम गई और खुद को साफ किया. मैं अभी भी वहीं बैठा हूं. वो बाथरूम से निकली, अपने कपड़े पहने.
मैं उसे अपनी बाँहों में लेकर उसके माथे को चूमता हुआ उसके पास गया. वह भागने की कोशिश नहीं कर रही है. मैं उसके कान में बड़बड़ाया "अब से तुम मेरी औरत हो, मैं तुमसे प्यार करता हूँ."
उसने कुछ नहीं जवाब दिया. सीधे मेरी आँखों में देखा और धीरे से उसके होंठ मेरे होठो के ऊपर रख दिये. उसने मुझे एक छोटा सा चुंबन दिया लेकिन मैं समझ सकता हूं कि यह उसके दिल से धन्यवाद के अलावा कुछ नहीं है.
"तुम बहुत शरारती हो. बहुत जिद्दी हो तुम. मुजे अपना बनाके छोड़ा तूमने. मैने जो भी मना किया वह सब किया तुमने.मुजसे प्यार भी कीया और अपना बीज मेरे अंदर भी छोड़ा अच्छा हुआ तूने शुरू किया थोडा बल पूर्वक किआ नही तो मैं यह कभी जान नही पाती की मेरे शरीर के अंदर इतना सुख छुपा है
“माय स्वीट हार्ट. जब भी तुम चाहेंगे मैं वहा तुम्हे मिलूंगी, मैं हमेशा तुम्हारे लिए रहूंगी”मैंने मुस्कुराते हुए उसके होंठों पर एक चुंबन लगाया.
वह मुझे पीछे छोड़ कर अपनी कॉटेज की ओर चली गई.
मैंने अपना मोबाइल लिया और रिकॉर्डिंग देखी. यह हमारे सेक्स सीजन का क्रिस्टल क्लियर वीडियो है. मुझे खुशी है कि आख़िर में मैं अपनी ड्रीम गर्ल नीलम को चोद पाया हूँ और अपने मास्टर प्लानिंग का पहला कदम भी पूरा कर रहा हूँ.

Post a Comment

0 Comments

Close Menu