Ad Code

रंडी बनकर तीन लोड़ो से चुदी


नमस्कार साथियों, मैं विवेक जो आज आप सभी को अपनी एक सच्ची घटना बताने जा रही हूँ यह बात करीब तीन साल पहले की है तब मेरी उम्र 20 साल थी और हमारे पहली चुदाई हमारे पास में रहने वाले एक अंकल ने की और उसके बाद वो अंकल हमेशा मुझे अपना लंड चूसने के लिए कहते थे. मैंने उनसे अपनी पहली चुदाई बहुत जमकर करवाई और मैंने उनके साथ बहुत मज़े लिए. इसके बाद उसके बाद मेरा एक बॉयफ्रेंड बना और मैंने उससे भी अपनी चूत को बहुत बार चुदवाया. अब में अपनी आज की उस कहानी पर आती हूँ जिसको लिखने के लिए मैंने बहुत मेहनत की है. दोस्तों मेरी लम्बाई 5.7 है और में दिखने में बहुत सुंदर हूँ और मेरा शरीर भरा हुआ बहुत सेक्सी है हमारे बूब्स का आकार 32 है और मेरी चूत 24 और मेरा रंग गोरा है.

 



मित्रगणों, यह कहानी तब की है जब मैंने अपना नया लेपटॉप लिया और मैंने उस पर गंदी गंदी फिल्म देखनी शुरू की जैसे कि तीन लड़को की मिलकर एक लड़की की जबरदस्त चुदाई और हमारे दिल में भी अब वैसे ही चुदाई करवाने की इच्छा होने लगी. तब मैंने इंटरनेट पर ढूँढना शुरू किया तो मुझे बहुत आदमियों से अपनी चुदाई करवानी थी वहां पर मुझे एक डेटिंग साईट का पता चला और मैंने उस पर अपना अकाउंट डाल दिया.

 

मित्रगणों, उसके बाद मेरी एक लड़के से बात हुई उसके बाद हमारी मैल आईडी एक दूसरे के पास गई और हमने मैल पर भी बहुत सेक्स चेटिंग के मज़े लिए और गंदी गंदी गालियों के साथ हमने बहुत मज़े किए उसके बाद हमने सही में चुदाई करने का प्लान बनाया, लेकिन मैंने उसके सामने अपनी शर्त रखी कि मुझे उससे रंडी बनकर चुदना है, वो मेरी बात को मान गया और उसने अपने दो दोस्तों से इसके बारे में बात की और हमने रविवार के दिन चुदाई का प्लान बनाया.

 

में उनके कहने पर नॉएडा चली गई और वो एक लड़का जिससे मेरी बात हुआ करती थी, उसका नाम विवेक था और वो मुझे लेने गया और वो मुझे पहली बार देखकर अपनी चकित नजरों से घूर घूरकर देखता रह गया, वो बहुत खुश होकर मुस्कुराते हुए बोला कि आज ज़िंदगी का असली मज़ा आएगा और इसके बाद हम ग्रेट नॉएडा उसके फ्लॅट पर पहुंचे. मैंने देखा कि वहां पर उसके दो दोस्त पहले से ही बैठे हुए थे, जिसमे से एक अफ्रिकन था उसका नाम जैक था और दूसरे का नाम आदिल था, वो दोनों उस समय दारू पी रहे थे और वो मुझे देखकर बहुत खुश हुए और मैंने भी उनसे बातें करनी शुरू की.

 

इसके बाद विवेक मुझसे कहने लगा कि तुम भी हमारे साथ पियो, लेकिन मैंने उनके साथ नहीं पी क्योंकि में नशे में चुदना नहीं चाहती थी, मुझे तो अपने पूरे होश में रहकर उनकी असली रंडी बनकर अपनी चुदाई करवानी थी.

 

अब विवेक बोला कि सबसे पहले में तुम्हे चोदूंगा, तो मैंने उससे कहा कि मुझे तुम सभी के साथ एक साथ अपनी चुदाई करवानी है दोस्तों मेरी वो बात सुनकर वो तीनों हंसने लगे और इसके बाद जैक मुझसे बोला कि तुम बहुत हिम्मत वाली और वैसे ही हॉट तुम्हारी चूत भी होगी और यह कहकर वो हमारे कपड़े उतारने लगा और तुरंत उसने मेरी जींस को उतार दिया और वो सीधा मेरी चूत में अपनी लंबी जीभ डाल दी और चाटने लगा. साथ साथ वो दारू भी पी रहा था और यह सब देखकर विवेक और आदिल अपना अपना लंड सहलाने लगे.

 



इसके बाद विवेक ने हमारे पास आकर सबसे पहले हमारे मुहं पर थूक दिया और वो बोला कि में आज तुझे अपनी असली रंडी बनाता हूँ, चल तू अब जल्दी से घूम और मुझे अपनी गांड दिखा. इसके बाद में उसके कहने पर उसके सामने कुतिया बन गई और अपनी गांड को हिलाने लगी और यह सब देखकर जैक से रुका नहीं गया तो उसने अपनी जीभ को मेरी गांड में घुसा दिया और यह सब आदिल अभी भी देख रहा था और विवेक ने हमारे होंठ चूसे और वो हमारे बूब्स को दबाने लगा. जैक कभी मेरी गांड चाट रहा था तो कभी चूत.

 

दोस्तों में अब मन ही मन अपने आपको एक असली रंडी की तरह महसूस कर रही थी और अब मेरी चूत से पानी किसी नदी की तरह बह रहा था, जिसको जैक विवेक समझकर पीता जा रहा था और अब विवेक ने अपने पूरे कपड़े उतार दिए और अब वो अपना 6 इंच लंबा मोटा लंड हमारे मुहं में डालकर गले में उतारने लगा, जिसकी वजह से मेरी सांसे रुकने लगी और मेरी आखों से आंसू बहने लगे और में उसके लंड को किसी ब्लूफिल्म की हिरोइन की तरह चूस रही थी और जैक, आदिल हंस रहे थे. तभी जैक और आदिल ने अपनी जींस को उतार दिया तो आदिल का लंड 5 इंच का और जैक का लंड जो बहुत काला करीब 7 इंच का था और जिसको देखकर पहले मुझे पसीने आने लगे.

 

इसके बाद में मन ही मन बहुत खुश होकर अपनी डरी हुई आँखो से उन्हे इशारा देने लगी कि तुम अब मुझे चोद दो यह लंड हमारे गले में उतार दो और इधर विवेक हमारे बाल पकड़कर हमारे मुहं को बहुत बेरहमी से लगातार धक्के देकर चोद रहा था और चोदते चोदते विवेक सिसकियाँ लेने लगा और अब वो मुझसे कहने लगा कि हाँ ले मेरा लंड अपने मुहं में कुतिया. पी जा इसका पानी हाँ और ज़ोर से चूस मेरी रंडी. अब और भी ज्यादा गरम हो गई इतने में आदिल ने मेरी चूत में उँगलियाँ करनी शुरू कर दी और विवेक हमारे मुहं में अपना लंड घोड़े के लंड की तरह ज़ोर से धक्के मारकर पूरा अंदर तक पहुंचा रहा रहा था.

 

तभी अचानक से उसने कुछ देर बाद जैक ने आदिल को इशारा करके कहा कि फोटो ले और उन्होंने तुरंत मेरी लंड को मुहं में लेते हुए बहुत सारी फोटो ले ली और इसके बाद विवेक ने मुझे एक थप्पड़ मार दिया और हमारे मुहं को अपने दोनों हाथों से चीरते हुए वो हमारे मुहं में झड़ गया और यह सब देखकर आदिल से नहीं रुका गया और आदिल ने अब मुझे दो चार थप्पड़ मारे.

 

इसके बाद वो मुझसे बोला कि मेरी रांड, जा में आज तेरी चूत का भोसड़ा बनाता हूँ, तुझे बहुत लंड लेने की इच्छा है, बहुत आग है ना तेरी चूत में, आज में वो सब बुझाता हूँ और तेरी चूत की खुजली मिटाता हूँ.

 

दोस्तों में उसके मुहं से यह बात सुनकर मन ही मन बहुत खुश होने लगी और में सोचने लगी कि अब मेरी जमकर चुदाई होगी और तीनों मुझे आज अपनी रंडी की तरह चोदेगे, मुझे बहुत मज़ा आएगा और अब में उसका पैर चाटने लगी और उसने मुझे बेड पर सीधा लेटा दिया जो कि आकार में बहुत बड़ा बेड था और उसके चारो कोनो में उन्होंने हमारे हाथ पैर बांध दिए और अब में अपनी चूत और को गांड को फैलाकर मेरी चुदाई करने वाले लंड के सामने पूरी खुलकर पड़ी थी.

 

इसके बाद आदिल ने अपने लंड का टोपा मेरी खुली चूत के मुहं पर रख दिया और उसने एक ही बार में ज़ोर से धक्का देकर अपना पांच इंच का लंड मेरी चूत में पूरा अंदर डाल दिया. उसका मोटा लंबा लंड मेरी चूत की चमड़ी को चीरता फैलाता हुआ अंदर जा पहुंचा, जिसकी वजह से हमारे मुहं से बहुत ज़ोर की चीख निकल पड़ी में दर्द से तड़पने लगी तो जैक मुझे थप्पड़ मारने लगा और विवेक शराब पीते हुए मुझे देख रहा था तभी आदिल बोला कि विवेक तू इसको कहाँ से लाया है? यह तो पक्की रंडी है हम तो आज मिलकर इसकी माँ को भी चोद देते अगर तू उसे भी ले आता और अब वो मुझे बहुत बेरहमी से धक्के देकर चोदने लगा और में चिल्लाने लगी कि हाँ ऐसे ही चोद आदिल मेरी चूत में अपना पूरा लंड अंदर तक डाल दे हाँ जाने दे पूरा अंदर तक आह्ह्हह्ह आज तू तेरे लंड का पानी डाल दे मेरी चूत में, बना दे आईईईईइ मुझे अपनी रंडी, फाड़ दे मेरी चूत को और बना दे आज तू उसका भोसड़ा. तो मैं धीरे धीरे उसकी चूत में ऊँगली अंदर बाहर कर रहा था और वो आहाहह उउउ अहहाअ की आवाज कर रही थी.

 

इसके बाद हमारे मुहं से यह बात सुनकर उसने मुझसे कहा कि रुक अभी तू हरामजादी, में आज तुझे चुदाई का मज़ा चखाता हूँ और इसके बाद उसने मेरी चूत के पानी से अपना लंड पूरा गीला किया और अब उसने मेरी गांड के छेद पर अपने लंड को रख दिया और धक्का देते हुए अंदर डालने लगा.

 

इसके बाद में वो सब देखकर एकदम घबरा गई थी क्योंकि मैंने इससे पहले कभी भी अपनी गांड को नहीं चुदवाया था. उसने अपना पूरा ज़ोर लगाकर आधा लंड मेरी गांड में डाल दिया और एक दो जोरदार झटके में उसने मेरी गांड को फाड़ दिया और अब में उस असहनीए दर्द की वजह से चीख रही थी और तड़पने लगी थी. वो बहुत अजीब सा दर्द था और कुछ देर बाद मुझे पीछे से आवाज़ आने लगी कि हाँ तू एक बहुत बड़ी रंडी है और आज तू खा जा इसका लंड को और अब में उसका पूरा पूरा साथ देने लगी थी विवेक आदिल दोनों एक साथ मुझे गलियां बक रहे थे और जैक अपने लंड को पकड़कर हिलाते हुए मेरी चुदाई का वीडियो बना रहा था. उसके गद्देदार चूतर अलग से दिखाई देते है.

 

करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद वो कभी मेरी चूत में तो कभी गांड में अपना लंड डालने लगा और इसके बाद विवेक ने झड़कर मेरी गांड में अपना पूरा वीर्य डाल दिया. अब भी विवेक का लंड तन रहा था और उसने हमारे दोनों हाथ खोल दिए गये और जैक ने अपना लंड हमारे मुहं में डाल दिया तो आदिल एक बार इसके बाद से हमारे बूब्स को सहलाने लगा और विवेक ने मेरी चूत में अपना लंड डाला तो मुझे बहुत आराम आया और मैंने इसके बाद जोश में आकर जैक के 7 इंच लंबे लंड को में किसी अनुभवी रंडी की तरह उसके लंड को लोलीपोप की तरह चूस रही थी और अपनी चूत में उसका लंड लेकर अपनी चुदाई करवाती रही.

 

इसके बाद कुछ देर बाद विवेक ने मेरी गांड भी चोदी और वो मुझे गंदी गंदी गालियाँ देने लगा और जैक ने लगातार मेरी चुदाई के वीडियो को अपने कैमरे में सेट करके कुछ देर बाद उसने टीवी पर लगा दिया. में उसमे एक नंबर की बाजारू औरत और एक बहुत बड़ी छिनाल जैसी लग रही थी और यह सब देखकर विवेक मुझसे बोला कि देख साली कुतिया तू कैसे एक अनुभवी रंडी की तरह चुद रही है? देख हराम की अलौद मादरचोद चुद और में तुझे चौराहे पर ले जाकर कुत्ते से तेरी चूत जरुर चुद्वाऊंगा और यह कहकर उसके धक्को की रफ़्तार अब बहुत ज्यादा बढ़ गई और अब वो मेरी चूत में झड़ गया. उसके चूत से झकड़.. झकड़.. झकड़.. झप.. झप... की आवाजें रही थी.

 

अब जैक पहले से ही मेरी चुदाई करने के लिए बिल्कुल तैयार था जैक तुरंत हमारे पास गया और वो मेरी चूत पर अपना लंड रखकर मुझसे बोला कि मेरा लंड झेलने के लिए तुम तैयार रहना अब में अपना लंड तुम्हारी चूत में डालकर तुम्हारी बहुत मस्त चुदाई करने वाला हूँ. दोस्तों, लेकिन उसको क्या पता था कि मेरी चूत तो ना जाने कब से उसके काले लंबे लंड को अपने अंदर लेने के लिए बेताब थी? वो बहुत तरस रही थी.

 

इसके बाद उसने ज्यादा समय खराब ना करते हुए एक ही झटके में अपने लंड को मेरी बच्चेदानी तक पहुंचा दिया जिसकी वजह से में उहहह्ह्ह्ह आहहह माँ मर गई प्लीज थोड़ा धीरे से डालो करने लगी और अब उसने धक्के देने के साथ साथ मेरी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. जैक मुझे लगातार धक्के देकर चोद रहा था और मानो में किसी जन्नत में हूँ मुझे ऐसा महसूस हो रहा था क्योंकि इससे पहले मैंने कभी भी इतना बड़ा लंड ना कभी देखा था और ना अपनी चूत में लिया था, लेकिन वो लंबा मोटा लंड आज मेरी चूत की गहराईयों में था.

 

इसके बाद कुछ देर बाद जैक ने अपना लंड चूत से बाहर निकालकर एक बार इसके बाद से मेरी गांड में डालकर धक्के देने शुरू किए जिसकी वजह से मुझे अपनी गांड में एक अजीब सी जलन महसूस होने लगी, क्योंकि उसका लंड आकार में सबसे मोटा लंबा था और अब वो विवेक को बोला कि तुम इसकी चूत में अपना हाथ डाल दो. इसके बाद उसने ठीक वैसा ही किया और जैक मेरी गांड का भोसड़ा बना रहा था तो विवेक ने अपना पूरा हाथ मेरी चूत में डाल दिया और अब आदिल से रुका नहीं गया तो उसने मेरी चूत से विवेक का हाथ बाहर निकाल दिया और अब में जैक के ऊपर बैठ गई और उसका लंड मेरी गांड में था और आदिल ने आगे से मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और विवेक ने अपना लंड हमारे मुहं में दे दिया. अब हमारे तीनों छेद उनके मोटे मोटे लंड से चुद रहे थे और में बहुत ख़ुसनसीब एक कुतिया बनकर उनके लंड को मज़े से खा रही थी.

 

हर जवान औरत की चूत लंड की प्यासी होती है. करीब 25 मिनट तक लंड बदल बदलकर कभी गांड में आदिल तो जैक चूत को चोदता तो कभी विवेक गांड तो जैक हमारे मुहं को चोदता और आदिल चूत उन तीनों के बीच में करीब ऐसे ही चुदाई करवाती हुई 6 बार झड़ गई और इसके बाद उन तीनों ने मुझे बेड पर बैठा दिया और इसके बाद मेरा मुहं खोल दिया और उन्होंने अपना अपना लंड हमारे मुहं में झाड़ दिया और वो मुझे हर कभी थप्पड़ मारते और गंदी गंदी गालियाँ देते और में उनके लंड का वीर्य जल समझकर चुपचाप पी गई उन तीनों ने मेरी पूरी आग को बिल्कुल शांत कर दिया था. में उनकी चुदाई और चुदाई करने के तरीके से बहुत चकित और बहुत खुश थी. उनकी उस चुदाई से हमारे तन और मन दोनों को वो सुख शांति संतुष्टि मिली, जिसके लिए में बहुत सालों से तरस रही थी.

दोस्तों आज में करीब तीन चार लंड में एक साथ ले लेती हूँ और में कभी कभी सेक्स पार्टी भी करती हूँ, जिसमे 10-12 मर्द एक साथ मेरी चुदाई करते है. में विवेक को बहुत बहुत धन्यवाद देना चाहती हूँ कि जिसने मेरी हर एक चुदाई में बहुत बार मदद की हैएक बार उसने जोश में आकर 7 इंच लंड भोसड़ी के बजाय गांड में धंसा दिया. इसलिए आज भी कभी कभी मेरी गांड में दर्द होने लगता है.

Close Menu